Haryana News

अचानक 9 साल का बच्चा ऐसे होटल में पहुंच गया..जहां बिकनी वाली लड़कियां सर्व करती हैं खाना, फिर क्या हुआ

 | 
अचानक 9 साल का बच्चा ऐसे होटल में पहुंच गया..जहां बिकनी वाली लड़कियां सर्व करती हैं खाना, फिर क्या हुआ

अचानक 9 साल का बच्चा ऐसे होटल में पहुंच गया..जहां बिकनी वाली लड़कियां सर्व करती हैं खाना, फिर क्या हुआ9 Year Old Boy: इन दिनों वायरल वीडियो के चलते बिकनी गर्ल और बड़े होटल्स में छोटे कपड़े पहन कर काम करने वाली लड़कियों के बारे में खूब चर्चा हो रही है. हाल ही में एक सोशल मीडिया स्पेस पर यह चर्चा चल रही थी, तभी एक केस स्टडी के बारे में बताया गया. इसमें एक 9 साल का लड़का अचानक उस होटल में पहुंच गया जहां सिर्फ बिकिनी पहनकर लड़कियां खाना परोस रही थीं. इसके बाद क्या हुआ आइए जानते हैं.

बच्चे को पार्टी देने ले गए
दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह मामला कुछ पुराना है. लेकिन हाल ही में इस सोशल मीडिया स्पेस में कई लोगों ने फिर से इसका जिक्र कर दिया था. घटना ब्रिटेन के लिवरपूल की है. यहां के रहने वाले एक शख्स के बेटे का परीक्षा परिणाम कुछ समय पहले आया था. जबकि बेटे के जन्मदिन की पार्टी भी बाकी थी. इसके लिए उस 9 साल के बच्चे को पार्टी देने ले गए.

बेटे को लेकर हूटर्स होटल में
रिपोर्ट्स के हवाले से बताया गया कि वे उस लड़के को ऐसे होटल में ले गए जहां बिकनी पहनकर लड़कियां शराब परोसती हैं. यह पूरा प्लान बच्चे के पिता का था लेकिन उसने अपने बेटे के साथ कुछ इस तरह जश्न मनाया कि बवाल हो गया. हुआ था यह कि उनका बेटा स्कूल में अच्छे नंबर्स से पास हुआ था. इस खुशी में वे अपने बेटे को लेकर हूटर्स होटल में चले गए. 

जानकारी के मुताबिक हूटर्स होटल बर्गर, बीयर और शॉर्ट ड्रेस पहने ग्लैमरस वेट्रेस के लिए मशहूर है. हालांकि यह जरूर बताया जाता है कि आमतौर पर ऐसे होटल्स या रेस्टोरेंट में बच्चों को लेकर लोग नहीं जाते. लेकिन यह पिता अपने बच्चे को लेकर पहुंच गया. बच्चे ने वहां एन्जॉय जरूर किया लेकिन उनके माता पिता लोगों के निशाने पर आ गए. 

सोशल मीडिया पर लोग उनके ऊपर भड़क गए थे. सोशल मीडिया के इस स्पेस में भी कई लोगों ने अपना पक्ष रखा कि बच्चे को ले जाने से वहां बचना चाहिए था. हालांकि यह उनकी खुद की स्वतंत्रता है, इसमें कोई कुछ कर नहीं सकता है. हालांकि सोशल मीडिया पर दी गई यह राय लोगों की व्यक्तिगत राय है. और जिस केस स्टडी के बारे में बताया गया उस में भी यह निर्णय बच्चों के माता-पिता का व्यक्तिगत निर्णय था.