Haryana News

IAS ऑफिसर ने पुराने सिक्कों की फोटो शेयर कर पूछा ऐसा चौंकाने वाला सवाल, सोच में पड़ गए लाखों लोग

 | 
IAS ऑफिसर ने पुराने सिक्कों की फोटो शेयर कर पूछा ऐसा चौंकाने वाला सवाल, सोच में पड़ गए लाखों लोग

Old Coin Price: क्या आप आज भी पुराने सिक्कों को देखकर हैरान रह जाते हैं कि आखिर पुराने जमाने के लोग कैसे यूज किया करते थे. अपने दादा-परदादा के जमाने के रखे हुए सिक्कों को देखने के बाद लोग भौचक्के रह जाते हैं. फिलहाल, इस वक्त ऐसे पुराने सिक्के बेहद ही कीमती हो चुके हैं. हाल ही में, आईएएस ऑफिसर अवनीश शरण ने एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की और लोगों से पूछा कि कितने लोगों ने इस पुराने सिक्के को देखा है और आपकी इससे क्या मेमोरी जुड़ी हुई है. आईएएस अधिकारी ने साल 1968 के बाद के छह अलग-अलग भारतीय पैसे की एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की, जिसके बाद ट्विटर यूजर्स बेहद हैरान रह गए.

क्या आपने इन सिक्कों का कभी यूज किया?
आईएएस अधिकारी अवनीश शरण द्वारा शेयर किए गए इस चौंकाने वाली तस्वीर को देखकर लोग अपने अतीत में चले गए और अपने किस्से साझा करने के लिए कमेंट बॉक्स का यूज किया. उन्होंने तस्वीर को शेयर करने के साथ ही एक सवाल भी पूछा. उन्होंने कैप्शन में लिखा, "इनमें से किस सिक्के से आपने कुछ ख़रीदा है?" सवाल देखने के बाद कई लोगों ने अपनी कहानियां शेयर की. जैसा कि आप तस्वीर में आप छह सिक्के देख सकते हैं: दो पैसे, तीन पैसे, पांच पैसे, दस पैसे, पच्चीस पैसे और पचास पैसे. कुछ लोगों सभी सिक्कों से जुड़ी कहानियां बताई तो कई ने इनमें से कुछ ही सिक्कों को देखा है.

इनमें से किस सिक्के से आपने कुछ ख़रीदा है ? pic.twitter.com/bCLkOCo0D3

— Awanish Sharan (@AwanishSharan) February 25, 2023

 
ट्विटर पोस्ट देखने के बाद लोगों ने दिए ऐसे रिएक्शन
पोस्ट को देखने के बाद एक यूजर ने लिखा, "कुछ तो अलग बात थी ये सिक्के में. मुट्ठी में हो तो सब मुमकिन लगता था." एक अन्य यूजर ने लिखा, "मेरी उम्र तो 51 साल है और मैंने इसमें से सभी सिक्कों को यूज किया है." एक तीसरे यूजर ने लिखा, "इन सिक्कों ने हमारे जमाने के बच्चों का पूरा डाइजेस्टिव सिस्टम (पाचन यंत्र) भ्रमण किया है." एक चौथे यूजर ने लिखा, "इतने में तो पूरा संसार खरीद लेते थे हम लोग." वहीं, एक अन्य ने लिखा, "आजकल के बच्चों के लिए तो यह सिक्के सिर्फ खिलौना है, लेकिन कभी तो इन सिक्कों में शादियां भी आयोजित हो जाया करती थीं."