Haryana News

सड़क पर रूमाल-गमछा बेचने वाले 74 साल के चचा ने बताई अपनी मजबूरी, सुनकर सिहर उठेंगे आप

 | 
सड़क पर रूमाल-गमछा बेचने वाले 74 साल के चचा ने बताई अपनी मजबूरी, सुनकर सिहर उठेंगे आप

Handkerchief Seller: मुंबई की सड़कों पर रूमाल बेच रहे 74 साल के एक शख्स इंटरनेट पर लाखों लोगों का दिल चुरा रहे हैं. ह्यूमन्स ऑफ बॉम्बे ने फेसबुक पर रिटायर शख्स हसन अली उर्फ काका की इंस्पिरेशनल कहानी शेयर की और कमेंट सेक्शन में लोग उनकी प्रशंसा कर रहे हैं. हसन अली को अब रिटायर हुए एक दशक से अधिक हो गया है, लेकिन वह अभी भी काम छोड़ना नहीं चाहते हैं. वह नहीं चाहते कि घर बैठे अपने अंत तक पहुंचने का इंतजार करें. इसके बजाय, बुजुर्ग शख्स हर दिन उठते हैं और सड़क पर अपने रूमाल बेचने के लिए शहर के बोरीवली स्टेशन जाते हैं.

रिटायर होने के बाद भी 17 साल से बेच रहे रूमाल
रिटायर होने से पहले हसन अली एक दुकान पर जूता विक्रेता का काम करते थे. उन्होंने अपने एक इंटरव्यू में कहा, “बेचना एक कला है. आपको यह जानने की जरूरत है कि वह व्यक्ति बिना कहे क्या चाहता है. मैंने वर्षों से ऐसा करना सीखा है. मैं किसी ग्राहक को देखता हूं और मुझे पता है कि वे क्या चाहते हैं. और यही मैं आज भी करता हूं.” वह 17 साल से रूमाल बेच रहे हैं, लेकिन उनका परिवार हमेशा उनसे काम छोड़ने के बारे में कहता रहता है. काका ने आगे कहा, “मेरे परिवार में एक प्यारी पत्नी, एक बेटा, एक बहू और एक पोती है. वे एकदम सही हैं. वे सभी मुझे इसे आराम करने के लिए कहते हैं. मेरा बेटा कहता है- कितना काम करोगे, अब्बा? लेकिन मैं हमेशा उससे कहता हूं कि मैं एक्टिव रहना चाहता हूं और बिस्तर पर नहीं पड़ना चाहता.' 

अपनी कहानी बताई तो लोग हो गए बेहद इमोशनल
काका ने आगे कहा, "मैं हर दिन अपने घर से बस लेता हूं और इन रूमालों को बेचने के लिए यहां आता हूं. पिछले कई वर्षों में मैंने कई सारे ग्राहक बनाए हैं. वे सभी मुझे प्यार से काका बुलाते हैं. और मुझे भी अपने सभी ग्राहकों के लिए समान प्रेम है.” बुजुर्ग व्यक्ति की कहानी ने इंटरनेट पर हजारों लोगों का दिल जीत लिया, क्योंकि कमेंट बॉक्स में कई लोग उनकी बहादुरी की प्रशंसा की और प्रेरित हुए कि आखिर कैसे 74 साल की उम्र में भी काम करने के लिए एक्टिव हैं.