Haryana News

ट्रैवल के दौरान यूरिन फ्रीक्वेंसी को रोकने में काम आएंगे ये टिप्स

 | 
ट्रैवल के दौरान यूरिन फ्रीक्वेंसी को रोकने में काम आएंगे ये टिप्स

फैमिली के साथ रोड ट्रिप पर जाने का प्लान बना है लेकिन एक्साइटेड होने की बजाय आप टेंशन में है। वजह है बार-बार पेशाब लगने की समस्या। अक्सर महिलाओं में ये दिक्कत देखने को मिलती है। जब उनका ब्लैडर ओवरएक्टिव होता है। जिसकी वजह से उन्हें सामान्य लोगों की तुलना में डेढ़ से दो गुना बार ज्यादा पेशाब जाने की जरूरत महसूस होती है। अगर आप रोड ट्रिप पर वाशरूम खोजने और फैमिली के बीच शर्मिंदा होने से बचने के चक्कर में जाने से बचना चाहती हैं। तो ऐसा ना करें बल्कि इन टिप्स को फॉलो कर पूरे ट्रिप को एंज्वाय करें। 

क्यों ओवरएक्टिव हो जाता है ब्लैडर
महिलाओं में ब्लैडर के ओवरएक्टिव होने के कई कारण हो सकते हैं। 

डायबिटीज की वजह से पुरुष या महिला दोनों को ही बार-बार यूरिन पास करने की जरूरत महसूस होती है। 

--वहीं महिलाओं में मेनोपॉज की वजह से बार-बार यूरिन पास करने का एहसास होता है। 

-कई बार महिलाओं में हार्मोंस के बदलने की वजह से ब्लैडर ओवरएक्टिव हो जाता है। 

-यूरिन इंफेक्शन भी एक कारण है जिसमे आपको बार-बार पेशाब लगती है और जलन महसूस होती है। ऐसे में आप एक साफ-सुधरे टॉयलेट की खोज में रहती हैं। 

ट्रैवल पर जाने से पहले इन टिप्स को फॉ़लो करें

कैफीन और लिक्विड कम मात्रा में लें
अगर आपकी सुबह कॉफी, चाय या पानी के साथ होती है। तो जिस दिन आपको ट्रैवल पर जाना है। उस दिन इस रूटीन को पूरी तरह से अवॉएड करें। कैफीन ब्लड प्रेशर को बढ़ाने के साथ ही नर्व्स सिस्टम पर कंट्रोल नहीं रखने देता और हार्ट रेट बढ़ जाता है। ऐसे में कैफीन की मात्रा ब्लॉटिंग और पानी की मात्रा को बढ़ा देती है। जिससे किडनी या हार्ट के मरीजों को ज्यादा यूरिन महसूस होने लगती है। 

खाने पर रखें कंट्रोल
अगर आप फ्रिक्वेंट यूरिनेशन से परेशान रहती हैं तो ट्रैवल के दौरान अपने फूड पर भी कंट्रोल करें। ऐसी चीजें कम खाएं जिससे प्यास ज्यादा लगें। ज्यादा प्यास लगने से आप पानी ज्यादा पिएंगी और यूरिन महसूस होगी। बल्कि प्यास लगने पर बर्फ का टुकड़ा चूसना फायदेमंद हो सकता है। ये आपको डिहाइड्रेशन से बचाएगा और यूरिन भी कम लगेगी।

खास वक्त की दवाएं मौजूद हों
अगर आप डायबिटीज और किडनी की मरीज हैं तो अपनी खास दवाओं को साथ रखें। जिससे कि यूरिन की वजह से आपके ब्लैडर पर कोई घातक प्रभाव ना पड़े।

हाइजीन वाले टॉयलेट का इस्तेमाल
अगर आपको बार-बार पेशाब लगती है तो आपको यूरिन इंफेक्शन का भी खतरा हो सकता है। जो ट्रेवल के दौरान परेशानी में डाल सकता है। इसलिए टॉयलेट के यूज के साथ ही सफाई का भी पूरा ध्यान रखें। 


करें ये काम
जब आप ट्रैवल ना कर रहे हों तो अपने ब्लैडर को स्ट्रांग बनाने का काम करें। इसके लिए पेल्विक फ्लोर एक्सरसाइज काफी मदद करती है। इससे पेल्विक की मसल्स स्ट्रांग होती है और ओवरएक्टिव ब्लैडर की दिक्कत को कम किया जा सकता है।