Haryana News

पेशाब के रंग से सेहत का लग सकता है पता, जानिए कब लें डॉक्टर की सलाह

 | 
पेशाब के रंग से सेहत का लग सकता है पता, जानिए कब लें डॉक्टर की सलाह
जब शरीर को किसी तरह की समस्या होती है, तो तरह तरह के बदलाव महसूस होते हैं। कुछ बदलावों के कारण कष्ट होता है, तो वहीं कुछ के शुरुआती लक्षण में अलग अलग लक्षण दिखते हैं। फिट रहने के लिए आपको हर एक चीज पर नजर रखनी चाहिए। क्या आप जानते हैं कि यूरिन का रंग आपकी हेल्थ को दर्शाता है। जब भी व्यक्ति को किसी तरह की बिमारी होती है तो पेशाब का रंग बदल जाता है। वैसे तो यूरिन का रंग हल्का पीला होता है। लेकिन किसी तरह की समस्या होने पर ये बदल जाता है। हालांकि, कभी-कभी बिना किसी लक्षण के भी रंग बदल सकता है। यूरिन का रंग हल्का मटमैला और पारदर्शी होता है लेकिन अगर शरीर में ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ पहुंचता है तो इससे यूरिन का रंग बदल जाता है। यहां बता रहे हैं कि कब आपको डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए-


पेशाब का रंग बता सकता है समस्या
कोई रंग नहीं या पारदर्शी- ऐसा पेशाब होने पर हो सकता है कि आप बहुत ज्यादा पानी पी रहे हों।  शरीर को हाइड्रेटेड रहने और ठीक से काम करने के लिए पानी की जरुरत होती है। लेकिन कुल मात्रा से अधिक बढ़ने से आपका मूत्र उस पानी जैसा दिखने लग सकता है जिसे आप पी रहे हैं। 

डार्क या शहद का रंग- गहरे रंग का पेशाब हल्के डीहाईड्रेशन का लक्षण है। इस तरह की पेशाब आने पर समझ लें कि आपके सिस्टम में तरल पदार्थ की जरुरत है। ऐसा तब हो सकता है जब आप किसी गर्म दिन में बाहर पसीना बहा रहे हों या कुछ देर पहले वर्कआउट खत्म किया हो।

भूरे रंग का पेशाब- गहरे भूरे रंग का पेशाब आपके मूत्र में पित्त के प्रवेश के कारण भी हो सकता है, जो लिवर की बीमारी का संकेत हो सकता है। भूरे रंग का पेशाब पोर्फिरीया का एक लक्षण है, जो त्वचा और तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने वाला एक विकार है।

पिंक या लाल पेशाब- कई बार चुकंदर, ब्लूबेरी या रूबर्ब खाने से पिंक या लाल पेशाब दिख सकता है। लेकिन अगर आपने ऐसा कुछ नहीं खाया है, तो ये चिंता का कारण हो सकता है। गुलाबी या लाल रंग का पेशाब किडनी, किडनी या यूरिन कैंसर, किडनी की पथरी, यूरिन इंफेक्शन, प्रोस्टेट की समस्या का लक्षण हो सकता है। 

नारंगी रंग- अगर आपका पेशाब नारंगी रंग का दिखता है तो हो सकता है कि आप पर्याप्त पानी नहीं पी रहे हों। इसके अलावा लीवर या पित्त नली की समस्या होने पर भी ऐसे रंग का पेशाब आ सकता है। या फिर खाने या दवाओं के कारण ऐसा हो सकता है। हाईड्रेटेड रहने के बाद भी  नारंगी रंग गायब नहीं होता है तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हल्का भूरा या गहरे पीले रंग का- हल्के पीले रंग की श्रेणी में आने वाला पेशाब यह संकेत देता है कि आप स्वस्थ और हाइड्रेटेड हैं। वैसे, वह पीला रंग आपके शरीर द्वारा उत्पादित यूरोक्रोम नामक रंगद्रव्य के कारण होता है।

कब लें डॉक्टर की सलाह 
अगर यूरिन का रंग ब्लड के रंग का दिखने लगे, यूरिन पास करते समय दर्द हो, तो यह खतरे का संकेत है। कभी-कभी यूरिनरी ट्रैक्ट में बैक्टीरियल इंफेक्शन होने से यूरिन का रंग नीला, डार्क या ऑरेंज कलर का हो जाए, तो डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर है।