Haryana News

Melasma Causes: चेहरे पर हो रहीं झाईयों के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं ये वजहें, जानें कैसे होंगी दूर

 | 
Melasma Causes: चेहरे पर हो रहीं झाईयों के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं ये वजहें, जानें कैसे होंगी दूर
महिलाओं के चेहरे पर अक्सर गाढ़े भूरे रंग के धब्बे चेहरे पर बनना शुरू हो जाते हैं। कई बार ये हल्के भूरे भी होते हैं। वहीं चेहरे के साथ हाथ, गर्दन, कंधे पर भी हो सकते हैं। इन धब्बों को बहुत बार लोग हल्के में लेते हैं और लापरवाही करते हैं। लेकिन ये भूरे धब्बे मेलाज्मा होते हैं। जिसका कारण शरीर के अंदर की गड़बड़ी होती है। भूरी झाईयों के लिए अक्सर ये कारण जिम्मेदार होते हैं। 


हार्मोनल बदलाव
मेलाज्मा या झाईयां होने का कारण शरीर में हार्मोनल बदलाव होता है। खासतौर पर प्रेग्नेंसी में होने वाले हार्मोंनल बदलाव इसका कारण होते हैं। इसीलिए झाईयों को मास्क ऑफ प्रेग्नेंसी भी कहते हैं। एस्ट्रोडन और प्रोजेस्ट्रॉन हार्मोंस के उतार-चढाव की वजह से मेलानोसाइट्स को ट्रिगर करता है। जिसकी वजह से मेलानिन का प्रोडक्शन बढ़ जाता है। स्किन पर पिग्मेंटेशन के लिए मेलानिन ही जिम्मेदार होता है। जिसकी वजह से स्किन पर झाईयां होने लगती हैं। कई बार बर्थ कंट्रोल पिल्स, और दूसरे हार्मोनल रिप्लेसमेंट थेरेपी की वजह से भी स्किन पर झाईंया होने लगती हैं। 

सन एक्सपोजर
तेज धूप की वजह से भी स्किन पर झाईंया पड़ने लगती हैं। अल्ट्रा वायलेट किरणें मेलानोसाइट्स को प्रभावित करती हैं। जिसकी वजह से ज्यादा मेलानिन बढ़ने लगता है। तभी तो गर्मियों में झाईयों की समस्या बढ़ जाती है। 


हीट
केवल धूप ही नहीं ज्यादा तापमान की वजह से मेलाज्मा बढ़ता है। ज्यादा देर तक अगर गर्म तापमान में रहा जाए तो झाईंया होने लगती हैं। वहीं तेज तापमान के साथ ही पसीना झाईंयों को बढ़ा देता है। 

ब्लू लाइट 
कई सारी स्टडी में पता चला है कि इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से निकलने वाली लाइट्स की वजह से भी मेलाज्मा हो जाता है। 

आनुवांशिक कारण
अक्सर उन लोगों में भी झाईंया देखने को मिलती है जिनके माता-पिता को मेलाज्मा होता है। स्किन पर होने वाले भूरे धब्बे जेनेटिक भी होते हैं।