Haryana News

आखिर क्यों कुछ लोगों का ब्लड शुगर लेवल हमेशा घटता-बढ़ता रहता है?

 | 
आखिर क्यों कुछ लोगों का ब्लड शुगर लेवल हमेशा घटता-बढ़ता रहता है?

ब्लड शुगर लेवल का सीधा असर डायबिटीज से जुड़ा है। जब ब्लड शुगर हाई होता है तो डायबिटीज हो जाता है। लेकिन जरूरी है ये जानना कि ब्लड शुगर कितना होने पर डायबिटीज होने का डर रहता है। ब्लड शुगर का लेवल जब 125 mg होता है तो डायबिटीज होने का खतरा रहता है। वहीं 100 से 125 mg तक का लेवल प्री डायिबिटीज माना जाता है। बिना खाए ब्लड शुगर का टेस्ट करने से सही लेवल पता चलता है। अगर आप कुछ खाने के बाद ब्लड शुगर का टेस्ट करते हैं तो ग्लूकोज लेवल पर असर पड़ता है और सही ब्लड शुगर पता नहीं चल पाता है। 

डायबिटीज होने पर सही डाइट के जरिए ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल किया जाता है। लेकिन कुछ लोगों में लाख कोशिशों के बाद भी ब्लड शुगर लेवल ऊपर-नीचे हो जाता है। तो चलिए जानें इसके क्या कारण हैं।

डिहाइड्रेशन
कई बार पानी की शरीर में कमी ग्लूकोज लेवल पर असर डालती है। जिसकी वजह से ब्लड शुगर लेवल ऊपर नीचे हो जाता है। इसीलिए डायबिटीज के मरीजों को गर्मी के मौसम में पूरी तरह से पानी पीने और हाइड्रेटेड रहने की सलाह दी जाती है। 

सही दवाओं का ना होना
डायबिटीज के मरीजों के लिए सही डाइट के साथ ही दवाओं का भी सटीक होना जरूरी है। अगर बार-बार आपका ब्लड शुगर फ्लक्चुएट हो रहा है। तो हो सकता है आपकी दवाईयां ठीक ना हो और बॉडी पर ठीक से काम ना कर रही हों। डायबिटीज के मरीज रोजाना ब्लड शुगर लेवल चेक नहीं करते और एक ही दवाओं पर टिके रहते हैं। जिसकी वजह से ब्लड शुगर बढ़ता घटता रहता है।

स्टीयरॉएड की वजह से
जब आप कुछ दूसरी दवाओं को ले रहे होते हैं तो ब्लड शुगर का बढ़ना-घटना होता है। 

तनाव बढ़ा देता है ब्लड शुगर लेवल
तनाव बहुत सारी बीमारियों की वजह होता है। जरूरत से ज्यादा स्ट्रेस बॉडी में ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा देता है। मायो क्लीनिक की रिसर्च में खुलासा हुआ है कि फिजिकल या मेंटल स्ट्रेस ऐसे हार्मोंस निकालते हैं जो ब्लड शुगर लेवल को हाई करने में मदद करते हैं।

नींद है जरूरी
नींद बॉडी के लिए उतनी ही जरूरी है जितना की भोजन। नींद पूरी ना होने से बॉडी के ऑर्गंस और हार्मोंस डिस्टर्ब हो जाते है और ठीक से काम करना बंद कर देते हैं। अगर आप एक रात नींद पूरी नहीं करते हैं तो इससे बॉडी इंसुलिन का यूज कम कर देती है। इसलिए जरूरी है कि रोजाना पर्याप्त नींद ली जाए।