Haryana News

त्योहार पर बनने वाले तिलकुट और मूंगफली के लड्डू, सेहत के लिए होते हैं फायदेमंद

 | 
त्योहार पर बनने वाले तिलकुट और मूंगफली के लड्डू, सेहत के लिए होते हैं फायदेमंद

Benefits Of Til Gud Laddoo And Sweet Potato: सर्दियों में तिलकुट, गजक, मूंगफली के लड्डू बाजारों में खूब मिलते हैं। इन देसी मिठाईयों के फायदे जानकर आप भी इसे खाना शुरू कर देंगे. जानें फायदे।

सर्दियां आते ही बाजारों में तिल के लड्डू से लेकर गजक, चिक्की, गोंद के लड्डू और गर्मागर्म भुनी मूंगफली मिलने लगती है। सर्दी की ये मिठाईयां दुकानों पर मिलने वाली रोजाना की मिठाईयों से बेहतर होती हैं।  इन्हें खाने का मजा भी अलग होता है। सर्दी की गुनगुनी धूप में बैठकर भुने शकरकंद और मूंगफली खाना लोग पसंद करते हैं। क्या आप जानते हैं ये सारी चीजें केवल स्वाद के लिए ही नहीं बल्कि सेहत के लिए भी फायदेमंद होती हैं। अगर आप चिक्की या गजक खाने के शौकीन हैं लेकिन सेहत को लेकर चिंतित रहते हैं तो इसके फायदे जानकर खुश हो जाएंगे। 


संक्राति और लोहड़ी पर बनती है तिल की मिठाईयां
जनवरी की कड़कड़ाती सर्दी में त्योहारों पर तिल और मूंगफली की मिठाईयां बनाने का चलन हैं। लोहड़ी और संक्राति के मौके पर तिल के लड्डू और गजक हर घर में बनते हैं। जिसे खाने से सर्दी से भी बचाव होता है। 

तिल है फायदेमंद
सर्दी के मौसम में शरीर में वात का प्रभाव बढ़ जाता है। ऐसे में हड्डियों और मांसपेशियों में जकड़न हो जाता है। तिल और गुड़ से बने लड्डू जोड़ों की अकड़न को कम करता है। तिल में कैल्शियम पर्याप्त मात्रा में होता है जो हड्डियों को मजबूत करता है। साथ ही तिल शरीर को गर्म रखने में भी मदद करता है। ऐसे में तिल का सेवन सर्दी-जुकाम से भी शरीर को बचाता है। 


इन रोगों में तिल खाना है फायदेमंद
हड़्डी और जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को भुने तिल और कच्चे तिल का सेवन करना चाहिए। वहीं डायबिटीज के मरीज भी तिल आसानी से खा सकते हैं। जिन लोगों को मीठे की क्रेविंग होती है वो गुड़ और तिल से बने लड्डुओं को आराम से खा सकते हैं। 

भुने शकरकंद खाने के फायदे
भुनी शकरकंद खाना बहुत सारे लोगों को पसंद होता है। शकरकंद गुणों का भंडार है। इसमे आलू से ज्यादा स्टार्च होता है। फाइबर, प्रोटीन, कैलोरी के साथ ही शकरकंद में कैल्शियम और कैरोटेनॉयड्स होते हैं। जो हड़्डियों को मजबूत बनाते हैं। 

डायबिटीज के मरीज खा सकते हैं
डायबिटीज के मरीज शकरकंद को आराम से खा सकते हैं। इसमे मौजूद यौगिक रक्त शर्करा को नियंत्रित करते हैं। हालांकि डॉक्टर की सलाह पर ही शकरकंद का सेवन करना चाहिए। अगर आप वजन कम करने के लिए सेहतमंद खाना खाते हैं तो शकरकंद खाएं। ये शरीर में फैट को बढ़ने से रोकता है। भुना शकरकंद खाने से भूख कम लगती है और वजन तेजी से कम होता है। इसलिए सर्दियों में आसानी से भुना शकरकंद खाएं। ये सेहत को हर तरह से फायदा पहुंचाता है।