Haryana News

100 में से 42 लोग सिर्फ इस कंपनी की कारें खरीद रहे, हुंडई-टाटा के हिस्से में 14-14 कार; देखें पूरी लिस्ट

 | 
100 में से 42 लोग सिर्फ इस कंपनी की कारें खरीद रहे, हुंडई-टाटा के हिस्से में 14-14 कार; देखें पूरी लिस्ट

सभी ऑटोमोबाइल कंपनियों ने मई सेल्स का डेटा जारी कर दिया है। हर बार की तरह इस बार भी मारुति सुजुकी सबसे ज्यादा कार बेचने वाली लिस्ट में नंबर-1 रही। पिछले महीने की टॉप-10 कंपनियों की बात की जाए मारुति के अलावा हुंडई, टाटा मोटर्स, महिंद्रा, टोयोटा, किआ, एमजी, होंडा, रेनो और स्कोजा शामिल हैं। मारुति की गाड़ियों की डिमांड को इस तरह समझा जा सकता है कि 100 में से 42 ग्राहक इसकी कार खरीदते हैं। क्योंकि मारुति के पास 42.83% मार्केट शेयर है। हुंडई और टाटा की करीब 14-14 कार खरीदते हैं। वहीं, महिंद्रा के लिए ये आंकड़ा 9 यूनिट का हो जाता है। चलिए सबसे पहले आपको टॉप-10 कंपनियों का मार्केट शेयर की बात करते हैं।

मारुति को SUV सेगमेंट में ग्रोथ
मई में मारुति सुजुकी इंडिया की बिक्री का बड़ा हिस्सा यूटिलिटी व्हीकल (UV) सेगमेंट से आया। जिसने 2022 के इसी महीने में बेची गई 124,474 यूनिट्स की तुलना में 143,708 यूनिट्स दर्ज कीं। यूटिलिटी व्हीकल सेगमेंट में जहां मारुति सुजुकी ब्रेजा, अरिटगा, फ्रोंक्स, ग्रैंड विटारा और XL6 जैसे मॉडल बेचती है। कंपनी ने मई 2023 में 46,243 यूनिट्स रजिस्टर कीं, जो 28,051 से काफी ज्यादा हैं। मारुति का दावा है कि इस फाइनेंशियल ईयर के पहले दो महीनों में उसने SUV और क्रॉसओवर की 82,997 यूनिट्स बेचीं, जो पिछले फाइनेंशियल ईयर की समान अवधि में दर्ज की गई 61,992 यूनिट्स की तुलना में काफी ज्यादा है।

हुंडई ने 48,601 यूनिट बेचीं
हुंडई ने घरेलू बाजार में 48,601 यूनिट बेचीं, जबकि मई 2022 में ये आंकड़ा 42,293 यूनिट का था। यानी इसकी 6308 यूनिट ज्यादा बिकीं और इसे 14.91% की ग्रोथ मिली। हुंडई ने पिछले महीने 11 हजार यूनिट एक्सपोर्ट कीं। मई 2022 में ये आंकड़ा 8970 यूनिट का था। यानी उसने 2030 यूनिट ज्यादा बेचीं और उसे 22.63% की ग्रोथ मिली। कुल मिलाकर कंपनी ने 59,601 यूनिट बेचीं जो मई 2022 में 51,263 यूनिट थीं। यानी हुंडई की 8338 यूनिट ज्यादा बिकीं और इसे 16.27% की ग्रोथ मिली।

अब बात करें महिंद्रा की सेल्स फिगर की तो, कंपनी ने पिछले महीने घरेलू बाजार के पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में 32,886 यूनिट बेचीं। जबकि सालभर पहले ये आंकड़ा 26,904 यूनिट का था। यानी महिंद्रा को 22% की बढ़िया ग्रोथ मिली। वहीं, एक्सपोर्ट की बात करें तो उसने 2616 यूनिट एक्सपोर्ट कीं। जबकि पिछले साल ये आंकड़ा 2028 यूनिट का था। इस तरह इसे एक्सपोर्ट में 29% की ग्रोथ मिली।