Haryana News

अगर 12वीं में ली थी कॉमर्स स्ट्रीम, तो जान लें, अब कौन सा कोर्स करना होगा सही

 | 
Class 12th,   CA  ICWA,  MBA,कॉमर्स , 12वीं कक्षा के बाद कोर्स, सीए, आईसीडब्ल्यूए, एमबीए,Hindi News, News in Hindi
अगर आपने कक्षा 12वीं की परीक्षा कॉमर्स स्ट्रीम के साथ दी है और अब भविष्य में करने वाले कोर्सेज को लेकर कंफ्यूज हैं, तो यहां हम आपके लिए कुछ कोर्सेज की जानकारी लेकर आए हैं, जिन्हें आप सोच- समझकर कर सकते हैं।


12वीं कक्षा के बाद करने वाले कोर्सेज
जिन छात्रों ने कक्षा 12  में कॉमर्स लिया था, वे बीकॉम, बीबीए और बीएमएस जैसे कोर्स कक्षा 12वीं के पास कर सकते हैं।  ग्रेजुएशन लेवल की पढ़ाई के बाद, वे एमकॉम, एमबीए (बैंकिंग और इंश्योरेंस, फाइनेंशियल एनालिसिस, ऑडिटर (HR) आर एंड डी इंटरनेशनल बिजनेस,सेल्स एंड एडवरटाइजिंग, लॉजिस्टिक, एमए (इकोनोमिक्स), इंग्लिश, स्टैटिक्स  जैसे कोर्सेज में स्पेशनलाइजेशन  हासिल कर सकते हैं। कॉमर्स में प्रोफेशनल कोर्सज में CA ,CS, ICWA, MBA  जैसे कोर्स शामिल है।

ये हैं मोस्ट डिमांडिग जॉब्स

श्री राम यूनिवर्सल स्कूल, बेंगलुरु की प्रिंसिपल शैलजा मेनन कहती हैं, "उभरते नौकरी बाजारों के बारे में आगे बताते हुए कहा, शैलजा मेनन ने कहा कि आने वाले समय में  व्यक्तिगत कौशल (Individual skills) और दक्षताओं (competencies)  वाली नौकरियों का बोलबाला रहेगा। उभरते बाजार में डेटा साइंटिस्ट, एआई और ह्यूमन रिसोर्स के साथ-साथ ब्लॉक चेन और मशीन लर्निंग, डेवलपर्स, निवेश बैंकर और क्रिएटिव डिजाइनर जैसी नौकरियों में वृद्धि देखी जाएगी। दूसरी ओर, मेडिकल प्रैक्टिशनर, इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी जैसी नौकरियां और संबद्ध सर्विसेज में जल्द ही ठहराव देखने को मिल सकता है। वहीं आज सबसे अधिक मांग वाली नौकरियों में डिजिटल मार्केटिंग,फाइनेंशियल एनालिस्ट, रिस्क  मैनेजमेंट आदि शामिल हैं।


श्री राम यूनिवर्सल स्कूल, बेंगलुरु की प्रिंसिपल शैलजा मेनन कहती हैं,

उभरते नौकरी बाजारों के बारे में आगे बताते हुए, सुश्री मेनन ने कहा कि आने वाले समय में व्यक्तिगत कौशल और दक्षताओं को प्रतिबिंबित करने वाली नौकरियों का बोलबाला रहेगा। उभरते बाजार में डेटा वैज्ञानिक, एआई और मानव संसाधन के साथ-साथ ब्लॉक चेन और मशीन लर्निंग, डेवलपर्स, निवेश बैंकर और क्रिएटिव डिजाइनर जैसी नौकरियों में वृद्धि देखी जाएगी। दूसरी ओर, मेडिकल प्रैक्टिशनर, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी जैसी नौकरियां और संबद्ध सेवाओं में जल्द ही ठहराव देखने को मिल सकता है," वह आगे कहती हैं।