Haryana News

घर में घुसकर मारेंगे, राजनाथ के बयान से पाकिस्तान को लगी मिर्ची; देने लगा गीदड़भभकी

 | 
घर में घुसकर मारेंगे, राजनाथ के बयान से पाकिस्तान को लगी मिर्ची; देने लगा गीदड़भभकी
भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के 'घर में घुसकर' मारने वाले बयान से पाकिस्तान भड़का हुआ है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा कि वह राजनाथ सिंह के इस बयान की निंदा करता है। साथ ही इसने गीदड़भभकी देते हुए कहा कि 'भारत को 2019 की वो घटना नहीं भूलनी चाहिए।' दरअसल एक दिन पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि अगर आतंकवादी भारत में शांति भंग करने की कोशिश करते हैं या आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देते हैं तो उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा और अगर वे पाकिस्तान भाग जाते हैं तो भारत पड़ोसी देश में घुसकर उन्हें मारेगा।


राजनाथ सिंह ब्रिटिश अखबार ‘द गार्जियन’ में प्रकाशित एक खबर को लेकर पूछे गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे जिसमें दावा किया गया है कि भारतीय खुफिया एजेंसियों ने 2019 के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा दृष्टिकोण के तहत पाकिस्तान में आतंकवादियों की हत्या कराई है। राजनाथ सिंह ने कहा कि ‘‘कोई भी आतंकवादी हमारे पड़ोसी देश से यदि हमारे भारत की शांति भंग करने की कोशिश करेगा, यहां पर यदि आतंकवादी हरकतें करेगा तो उसका मुंह तोड़ जवाब देंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यदि वो भाग कर पाकिस्तान में जाएगा तो पाकिस्तान में घुस कर मारेंगे।’’ सिंह ने कहा कि भारत में सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की ताकत है और पाकिस्तान को इसका अहसास शुरू हो गया है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया टिप्पणियों का समर्थन किया कि ‘‘भारत’’ मूक दर्शक नहीं रहेगा।


क्या बोला पाकिस्तान

पाकिस्तान का कहना है कि भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बयान ब्रिटिश अखबार ‘द गार्जियन’ की खबर की पुष्टि करता है जिसमें कहा गया है कि भारत पाकिस्तान में घुसकर मार रहा है। आज जारी विदेश मंत्रालय के बयान में, पाकिस्तान ने आधिकारिक तौर पर भारतीय रक्षा मंत्री द्वारा की गई "भड़काऊ टिप्पणियों" की निंदा की है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने कहा, "पाकिस्तान के अंदर मनमाने ढंग से 'आतंकवादी' करार दिए गए नागरिकों को मारने की भारत की तैयारी का दावा स्पष्ट रूप से दोषी होने का कबूलनामा है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लिए भारत को उसके जघन्य और अवैध कार्यों के लिए जवाबदेह ठहराना जरूरी है।" इसमें कहा गया है: “पाकिस्तान आक्रामकता के किसी भी कृत्य के खिलाफ अपनी संप्रभुता की रक्षा करने के के लिए तैयार है। हमने फरवरी 2019 में भारत की लापरवाह घुसपैठ पर मजबूत जवाब दिया था। इस जवाब ने सैन्य श्रेष्ठता के भारत के खोखले दावों को उजागर कर दिया।"