Haryana News

सेमीकंडक्टर प्लांट, फाइटर इंजन और भी बहुत कुछ; PM मोदी के US दौरे से क्या-क्या मिला

 | 
सेमीकंडक्टर प्लांट, फाइटर इंजन और भी बहुत कुछ; PM मोदी के US दौरे से क्या-क्या मिला

पीएम नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे में कई अहम करारों पर मुहर लगी है। इस बीच अपने गृह राज्य गुजरात को भी पीएम नरेंद्र मोदी ने अमेरिका से ही बड़ा तोहफा दिया है। अमेरिकी कंप्यूटर चिप मेकर कंपनी माइक्रॉन ने गुजरात में 2.7 अरब डॉलर के निवेश का फैसला लिया है। कंपनी की ओर से गुजरात में असेम्बलिंग और टेस्टिंग प्लांट स्थापित किया जाएगा। पीएम नरेंद्र मोदी के साथ कंपनी के सीईओ संजय मेहरोत्रा की मीटिंग के बाद इस फैसले का ऐलान किया गया। मेहरोत्रा ने कहा कि हम भारत सरकार की ओर से सेमीकंडक्टर ईकोसिस्टम के लिए उठाए गए कदमों से रोमांचित हैं और साथ मिलकर काम करना चाहते हैं। 

सरकार की ATMP स्कीम के तहत इस प्लांट को मंजूरी दी गई। ATMP स्कीम में असेम्बलिंग, टेस्टिंग, मार्किंग और पैकेजिंग शामिल है। इसके अलावा भारत और अमेरिका के बीच अर्टेमिस एकॉर्ड्स पर भी मुहर लगी है। इसके तहत दोनों देश अंतरिक्ष खोज पर साथ काम करेंगे। नासा और इसरो ने इस करार के तहत अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर 2024 में एक साथ काम करने का फैसला लिया है। इस करार के साथ ही भारत उन देशों में शामिल हो गया है, जो अंतरिक्ष अनुसंधान में अमेरिका के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। 

भारत में ही फाइटर जेट के इंजन बनाएगी US कंपनी
एक अहम करार फाइटर जेट के इंजनों को लेकर हुआ है। अमेरिकी कंपनी GE एयरोस्पेस ने भारत में जेट इंजनों की मैन्युफैक्चरिंग का प्लांट लगाने का फैसला लिया है। हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के साथ मिलकर अमेरिकी कंपनी काम करेगी। इससे भारत में ही लड़ाकू विमानों के इंजन तैयार किए जा सकेंगे। इस प्लांट में तेजस लड़ाकू विमानों के लिए इंजन तैयार होने हैं। भारत और अमेरिका के बीच इंडस एक्स समझौता भी हुआ है। इसके तहत दोनों देश डिफेंस स्टार्टअप्स सेक्टर में साथ आएंगे। यही नहीं तकनीकी जानकारी भी साझा कर सकेंगे। 

iCET करार से तकनीक करेंगे साझा
भारत और अमेरिका के बीच iCET करार भी हुआ है। इसके तहत दोनों देश टेक रिसर्च, सिविलियन स्पेस, क्वांटम टेक्नोलॉजी और सेमीकंडक्टर सप्लाई चेन के मामले में साथ आएंगे। दोनों देश जटिल तकनीक एक-दूसरे के साथ साझा करेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका की दोस्ती में आकाश से ज्यादा संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि हमारी दोस्ती का आधार पीपल टू पीपल कनेक्ट है। पीएम मोदी ने कहा कि 40 लाख से ज्यादा भारतीय मूल के लोग अमेरिका के विकास में योगदान दे रहे हैं।