Haryana News

देवेंद्र फडणवीस से बनती नहीं, फिर भाजपा क्यों ला रही वापस, कहां सेट होंगे एकनाथ खडसे

 | 
देवेंद्र फडणवीस से बनती नहीं, फिर भाजपा क्यों ला रही वापस, कहां सेट होंगे एकनाथ खडसे
कभी महाराष्ट्र भाजपा के कद्दावर नेता एकनाथ खडसे फिर से वापसी की तैयारी में हैं। भाजपा की ओर से महाराष्ट्र विधानसभा में नेता विपक्ष और 1995 से ही मंत्री रह चुके एकनाथ खडसे लेवा पाटिल समुदाय से आते हैं और कभी पार्टी के बड़े ओबीसी चेहरे हुआ करते थे। लेकिन 2020 में वह पार्टी छोड़कर शरद पवार की एनसीपी के साथ चले गए थे। शरद पवार ने उन्हें विधान परिषद सदस्य भी बनाया, लेकिन एकनाथ खडसे फिर से अपनी पुरानी ही पार्टी में लौटने जा रहे हैं, जहां उन्होंने 4 दशक तक राजनीति की थी। लेकिन एकनाथ खडसे की वापसी को लेकर यह सवाल भी उठने लगे हैं कि जब देवेंद्र फडणवीस से उनकी नहीं बनती तो फिर उन्हें कहां सेट किया जाएगा।


देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ खडसे के बीच 2014 में बनी भाजपा की राज्य सरकार में सीएम पद को लेकर रेस थी। ओबीसी होने के चलते खडसे का नाम आगे भी था, लेकिन अंत में बाजी देवेंद्र फडणवीस के हाथ लगी। एकनाथ खडसे को कई अहम मंत्रालय सौंपे गए थे। लेकिन दोनों के बीच खींचतान बनी ही रही, लेकिन एकनाथ खडसे के लिए 2016 का साल मुश्किल भरा रहा। उनके ऊपर करप्शन के आरोप लगे और इस्तीफा देना पड़ गया। मंत्री पद जाने के बाद से ही एकनाथ खडसे खुद को साइडलाइन महसूस करने लगे और फिर 2020 में वह भाजपा ही छोड़ गए।

ओबीसी नेता एकनाथ खडसे के पार्टी छोड़ने के बाद भाजपा ने विनोद तावड़े को प्रमोट किया, वह भी ओबीसी समुदाय से आते हैं। ऐसे में यह अहम सवाल है कि आखिर एकनाथ खडसे को भाजपा कहां सेट करेगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा की ओर से उन्हें राज्यपाल बनाया जा सकता है। उनकी उम्र भी 71 साल हो चुकी है और 70 प्लस वाले फॉर्मूल के तहत उन्हें किसी राज्य का गवर्नर बनाया जा सकता है। इससे एक तरफ यह संकेत जाएगा कि भाजपा ने ओबीसी नेता का सम्मान किया। इसके अलावा देवेंद्र फडणवीस के साथ उनके टकराव को भी टाला जा सकेगा। फडणवीस के अलावा गिरीश महाजन जैसे नेताओं से भी खडसे की नहीं बनती।


बता दें कि एकनाथ खडसे ने जब भाजपा छोड़ थी, तब भी फडणवीस पर आरोप लगाया था कि वह उनका राजनीतिक करियर खत्म करना चाहते हैं। अब उनका कहना है कि अगले 15 दिनों में वह कभी भी भाजपा में लौट आएंगे। इस बीच रविवार को उनसे सवाल हुआ कि सोमवार को महाराष्ट्र के चंद्रपुर में पीएम मोदी की रैली है। क्या वह तभी भाजपा में आएंगे। इस पर खडसे ने कहा कि ऐसा नहीं होगा। वह दिल्ली में आकर पार्टी जॉइन करेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले 6 महीने से पार्टी के कई सीनियर नेताओं से बात हो रही थी। उनका कहना था कि आपको वापसी करनी चाहिए।