Haryana News

HSSC के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने ग्रुप डी मेरिट लिस्ट पर दिया बड़ा बयान, फटाफट चेक करें न्यू अपडेट

 | 
HSSC के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी ने ग्रुप डी मेरिट लिस्ट पर दिया बड़ा बयान, फटाफट चेक करें न्यू अपडेट
हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (HSSC) के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी (Bhopal Singh Khadri) ने ग्रुप D की भर्ती में नए बदलाव की जानकारी दी है। उनके अनुसार, अब सामाजिक-आर्थिक मानदंडों के 5 अंकों पर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है।


चण्डीगढ़: HSSC: हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (HSSC) के चेयरमैन भोपाल सिंह खदरी (Bhopal Singh Khadri) ने ग्रुप D की भर्ती में नए बदलाव की जानकारी दी है। उनके अनुसार, अब सामाजिक-आर्थिक मानदंडों के 5 अंकों पर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है। इसका मतलब है कि इन अंकों की स्थिति को लेकर हाईकोर्ट से मामला चलेगा और यदि स्थिति स्पष्ट होती है, तो वे नंबर्स क्वालीफाइंग उम्मीदवारों को मिलेंगे।

सीईटी स्कोर पर होगा चयन

भोपाल सिंह ने बताया कि यदि कोई व्यक्ति 68 से कम अंक प्राप्त करता है, तो उसे चयन सूची में शामिल नहीं किया जाएगा। यदि हाईकोर्ट से इन अंकों की स्थिति स्पष्ट होती है, तो वे नंबर्स क्वालीफाइंग उम्मीदवारों को मिलेंगे। अगर स्थिति स्पष्ट नहीं होती तो आयोग बिना इन नंबरों के मेरिट लिस्ट बनाएगा। चेयरमैन ने बताया कि ग्रुप D (HSSC Group D) के सीईटी पास उम्मीदवारों में से लगभग 45000 अभ्यर्थियों को विकल्प देने का विचार किया जा सकता है, जहां उम्मीदवारों से सीईटी स्कोर के आधार पर चयन किया जाएगा।


विकल्प भरने की प्रक्रिया

विकल्प भरने की प्रक्रिया के बारे में भोपाल सिंह ने कहा कि इस पर अभी तक कोई निर्णय नहीं हुआ है। हालांकि, संभावना है कि उम्मीदवारों को इस प्रक्रिया के तहत ग्रुप D की नौकरी करने की इच्छा है या नहीं, यह पूछा जाएगा। इस विकल्प के तहत, उम्मीदवारों से पूछा जाएगा कि क्या वे ग्रुप D की नौकरी करना चाहते हैं या नहीं। NO करने पर उन्हें ध्यान नहीं दिया जाएगा, जबकि YES करने पर उन्हें आगे विभाग भरने का विकल्प मिलेगा।


उम्मीदवारों की राहत

ग्रुप D की भर्ती के समय, कुछ उम्मीदवारों ने सोशल मीडिया पर अपने सीईटी स्कोर को वायरल कर दिया था और इसका विरोध किया था। उनका आरोप था कि उनके स्कोर को नेगेटिव किया गया था जो कि गलत था। भोपाल सिंह ने बताया कि OMR शीट पर प्रत्येक प्रश्न के पांच विकल्प थे और यदि किसी को प्रश्न का उत्तर नहीं पता था, तो उसे पांचवा विकल्प भरना था। लेकिन, पांचवा विकल्प नहीं भरने के कारण, सिस्टम ने हर प्रश्न के 0.95 अंक काट लिए और सीईटी स्कोर नेगेटिव हो गया।

सरकारी योजना की जानकारी के लिए ज्वाइन करे WHATsApp ग्रुप - क्लिक करे