Haryana News

Haryana: आपके पास देसी गाय तो हरियाणा सरकार देगी 25 हजार रुपए सीधे आपके खाते में, इस तरीके से मिलेगा आपको लाभ

 | 
Haryana: आपके पास देसी गाय तो हरियाणा सरकार देगी 25 हजार रुपए सीधे आपके खाते में, इस तरीके से मिलेगा आपको लाभ
Haryana Govt Scheme: आधुनिकता के इस युग में कृषि के साथ- साथ पशुपालन व्यवसाय में किसानों की रूचि बढ़े, इसके लिए केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा समय- समय पर अनेक प्रकार की योजनाएं चलाई जाती है ताकि किसान अतिरिक्त आमदनी कर सकें. इसी कड़ी में हरियाणा की मनोहर सरकार देशी गायों की खरीद पर सब्सिडी दे रही है. इसके लिए इच्छुक किसानों और पशुपालकों को आवेदन करना होगा.


ऐसे लोगों को मिलेगा लाभ
बता दें कि सीएम मनोहर लाल ने देशी नस्ल की गायों की खरीद पर किसानों को 25,000 रुपये तक की सब्सिडी देने की घोषणा की है. इस सब्सिडी के लिए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के निर्धारित पोर्टल पर पंजीकृत दो से पांच एकड़ भूमि वाले और स्वेच्छा से प्राकृतिक खेती अपनाने वाले किसानों को देशी गाय की नस्ल खरीदने के लिए सब्सिडी प्रदान की जाएगी.

प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने का लक्ष्य
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में 50 हजार एकड़ भूमि पर प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने का लक्ष्य रखा गया है और इसके प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर प्रखंड में प्राकृतिक खेती की प्रदर्शनी लगाई जाएगी. उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए देसी गाय की खरीद पर 25 हजार रूपये तक की सब्सिडी और जीवामृत का घोल तैयार करने के लिए चार बड़े ड्रम किसानों को नि:शुल्क दिए जाएंगे. ऐसा करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य होगा.


हरियाणा सीएम ने कहा कि प्राकृतिक खेती का मूल उद्देश्य खान-पान को बदलना है, इसके लिए हमें “खाद्यान्न ही औषधि है” की धारणा को अपनाना होगा. प्राकृतिक खेती ही इसका एकमात्र रास्ता है. ऐसा होने से खेती में लागत कम होगी. किसानों की आय में इजाफा होगा और लोगों की सेहत ठीक रहेगी.


इस बैठक में सीएम खट्टर ने कहा कि अब प्रगतिशील किसानों को प्रकृतिशील किसानों के नाम से जाना जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि अपनी मर्जी से प्राकृतिक खेती अपनाने वाले 2 से 5 एकड़ जमीन वाले किसानों को देसी गाय खरीद के लिए 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान की जाएगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राकृतिक खेती का मूल उद्देश्य खान-पान को बदलना है, इसके लिए हमें 'खाद्यान ही औषधि' की धारणा को अपनाना होगा. 

उन्होंने कहा कि सिक्कम देश का पहला राज्य है, जो पूरी तरह से प्राकृतिक खेती पर आ गया है. हिमाचल प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र व मध्य प्रदेश में भी काफी कार्य हो रहा है, अब हरियाणा सरकार नई पहल करते हुए देसी गाय की खरीद पर सब्सिडी देने का कार्य करेगी. 


मुख्यमंत्री ने कहा, उन्हें खुशी है कि किसान अब प्राकृतिक खेती को समझने लगे हैं और कृषि विभाग द्वारा बनाए गए पोर्टल पर अब तक प्रदेश के 1253 किसानों ने स्वेच्छा से प्राकृतिक खेती अपनाने के लिए पंजीकरण करवाया है.

मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा कि एक समय था जब 1960 के दशक में देश में खाद्यानों की कमी हो गई थी, इसके लिए हरित क्रांति का आह्वान किया गया, जिसके चलते अंधाधुंध रासायनिक खादों का उपयोग हुआ और देश में अनाज के उत्पादन की कमी नहीं रही. अब रासायनिक खादों के प्रयोग से खेत और फसल भी जहरीले हो गए हैं. 

सीएम खट्टर ने यह भी कहा कि प्राकृतिक खेती के उत्पादों की पैकिंग सीधे किसान के खेतों से ही हो, ऐसी योजना भी तैयार की जाएगी जिससे बाजार में ग्राहकों को इस बात की शंका ना रहे कि यह प्राकृतिक खेती का उत्पाद है या नहीं.