Haryana News

Ration Card Rules: राशन कार्ड धारको को लगा बड़ा झटका, अब इन लोगो को नही मिलेगा राशन, फटाफट चेक करे लिस्ट में अपना नाम

 | 
राशन कार्ड धारको को लगा बड़ा झटका, अब इन लोगो को नही मिलेगा राशन, फटाफट चेक करे लिस्ट में नाम

Ration Card Rules: हर‍ियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था क‍ि ज‍िनके घर में कोई सदस्‍य नौकरी कर रहा है या फ‍िर आमदनी 1.80 लाख रुपये सालाना से ज्‍यादा है. ऐसे लोगों के नाम पीले राशन कार्ड से काटे गए हैं.

Ration Card Latest News: अगर आप भी राशन कार्ड के माध्‍यम से सरकार से फ्री राशन लेते हैं तो यह खबर आपके काम की है. सरकार की तरफ से राशन कार्ड धारकों के ल‍िए समय-समय पर बदलाव होते रहते हैं. प‍िछले द‍िनों केंद्र सरकार ने पीएम गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना (PMGKAY) को द‍िसंबर 2023 तक के ल‍िए आगे बढ़ाया था. इसके बाद हर‍ियाणा में लाखों राशन कार्डधारकों के नाम ल‍िस्‍ट से काट द‍िये गए. ज‍िन लोगों के नाम काटे गए उनमें से कई अभी तक परेशान हैं.

1.80 लाख रुपये सालाना से ज्‍यादा न हो आय
इस बारे में सूबे के मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था क‍ि ज‍िनके घर में कोई सदस्‍य नौकरी कर रहा है या फ‍िर आमदनी 1.80 लाख रुपये सालाना से ज्‍यादा है. ऐसे लोगों के नाम पीले राशन कार्ड से काटे गए हैं. इसके पीछे सरकार का मकसद जरूरतमंद लोगों को राशन व‍ितर‍ित करना है. उन्‍होंने यह भी कहा क‍ि ज‍िनके राशन कार्ड से नाम काटे गए हैं, वे अपने राशन कार्ड को फ‍िर से बनवाने के ल‍िए जा रहे हैं. इनमें से कुछ लोग पीले या बीपीएल कार्ड के योग्‍य नहीं हैं.

एक महीने में बन जाएंगे सभी पर‍िवारों के कार्ड
उन्‍होंने कहा ऐसा पर‍िवार जो आर्थ‍िक स्‍थ‍ित‍ि के आधार पर सरकार से राशन लेने के योग्‍य है, उन्‍हें राशन कार्ड का पूरा फायदा द‍िया जाएगा. ऐसे पर‍िवारों का राशन नहीं रखा जाएगा. एक महीने के अंदर सभी पर‍िवारों के राशन कार्ड बना द‍िये जाएंगे. उन्‍होंने यह भी आदेश द‍िया क‍ि ज‍िनके नाम राशन कार्ड की ल‍िस्‍ट से गलत तरीके से काटे गए हैं, उनको अगले महीने राशन कार्ड बनने पर डबल राशन म‍िलेगा.


मुख्‍यमंत्री ने यह भी कहा क‍ि ऐसे कर्मचारी ज‍िनका नाम गलती से कटा है, उन पर सख्‍त कार्यवाही की जाएगी. आपको बता दें राज्‍य में राशन कार्ड बनवाने के ल‍िए 1 जनवरी 2023 से प्रक्र‍िया शुरू हो चुकी है. हर‍ियाणा में बीपीएल राशन कार्ड बनवाने के ल‍िए उम्‍मीदवार का गरीबी रेखा से नीचे होना जरूरी है.