Haryana News

हरियाणा पंचायत चुनाव: खुद सरकार के डिफॉल्टर तो नहीं लड़ सकेंगे चुनाव, नामांकन लिए 4 NOC अनिवार्य

 | 
हरियाणा पंचायत चुनाव: खुद सरकार के डिफॉल्टर तो नहीं लड़ सकेंगे चुनाव, नामांकन लिए 4 NOC अनिवार्य

राज्य चुनाव आयोग (SEC) ने रिश्तेदारों के बकाएदार महिला प्रत्याशियों को पंचायत चुनाव में बड़ी राहत दी है। आयोग ने ऐसी महिला प्रत्याशियों के नामांकन हो हरी झंडी दी है। साथ ही राज्य विधि आयोग (LR) से इस मामले में राय भी मांगी है। हालांकि खुद यदि प्रत्याशी सरकार का डिफाल्टर है तो वह चुनाव में नहीं खड़ा हो सकेगा।

क्या था मामला
हरियाणा पंचायत चुनाव के लिए इन दिनों नामांकन प्रक्रिया चल रही है। इस दौरान राज्य चुनाव आयोग के पास कुछ ऐसी शिकायतें आईं जिनमें महिला प्रत्याशियों के रिश्तेदार डिफाल्टर हैं। इन शिकायतों पर अमल करते हुए आयोग की ओर से LR से राय मांगी गई है। हालांकि अभी इस मामले में LR की ओर से राय नहीं दी गई है, लेकिन आयोग ने ऐसी महिला प्रत्याशियों को राहत देने का फैसला किया है।


सेल्फी विद डॉटर फाउंडेशन की शिकायत पर फैसला

आयोग ने यह कार्रवाई सेल्फी विद डॉटर के संस्थापक सुनील जागलान की शिकायत पर की है। शनिवार को चुनाव आयोग ने राज्य के सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए हैं। सेल्फी विद डॉटर फाउंडेशन द्वारा हरियाणा से 5 महिला उम्मीदवारों को पंचायत चुनाव के लिए तैयार किया गया है, जिसमें एक उम्मीदवार भिवानी की पिंकी को उनके ससुर के नाम से पड़े बिजली बिल के कारण SDO ने NOC देने से इनकार कर दिया था।

नॉमिनेशन में ये NOC जरूरी
यदि कोई व्यक्ति पंचायत चुनावों में नामांकन करता है तो उसके लिए 4 NOC अनिवार्य की गई हैं। इनमें बिजली विभाग, सहकारी सोसाइटी के ऋण और हरियाणा सहकारी बैंक के ऋण की NOC शामिल है। इसके अलावा अन्य केसों के लिए स्व प्रमाणित शपथपत्र प्रत्याशी को देना होगा।

पहले चरण के शुरू हो चुके नामांकन
राज्य में पहले चरण के नामांकन 14 अक्टूबर से शुरू हो चुके हैं, जो 19 अक्टूबर तक चलेंगे। साथ ही 30 अक्टूबर और 2 नवंबर को इसके लिए वोटिंग की जाएगी। दूसरे चरण के मतदान के लिए 9 और 12 नवंबर की डेट राज्य चुनाव आयोग ने फिक्स की है।