Haryana News

BPL Ration Card News: हरियाणा के जिलो में बना हेल्प डेस्क, BPL कार्ड और फैमिली आईडी से जुड़ी समस्याओं का समाधान अब तुरंत

 | 
BPL Ration Card News: हरियाणा के जिलो में बना हेल्प डेस्क, BPL कार्ड और फैमिली आईडी से जुड़ी समस्याओं का समाधान अब तुरंत

Haryana:अब हेल्प डेस्क से बीपीएल राशन कार्ड और पीपीपी से जुड़ी सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा। इसको लेकर जिला सरल केंद्र में हेल्प डेस्क बनाया गया है। इस हेल्प डेस्क में नागरिक संसाधन सूचना विभाग व जिला प्रशासन के कर्मचारी मौजूद होंगे। जो लोगों की समस्याओं का समाधान करेंगे।

इस बारे में एडीसी डॉ. वैशाली शर्मा ने कहा कि इस हेल्प डेस्क पर कोई भी व्यक्ति परिवार पहचान पत्र से जुड़ी त्रुटि व बीपीएल कार्ड से जुड़ी जानकारी ले सकता है या फिर इसमें सुधार करवा सकता है। उन्होंने कहा कि परिवार पहचान पत्र से जुड़ने के बाद बीपीएल राशन कार्ड धारकों की सूची अपडेट हुई है। ऐसे में कुछ लोगों के राशन कार्ड कटे भी हैं। एडीसी ने आम जनता से अपील की है कि वे अपने राशन कार्ड को ठीक करवाएं। किसी भी व्यक्ति को जिला प्रशासन की ओर से दिक्कत नहीं आने दी जाएगी। उनकी समस्याओं का तत्काल समाधान किया जाएगा।

1.80 लाख रुपये से ज्यादा आमदनी वाले परिवारों के कटे हैं कार्ड
एडीसी डॉ. वैशाली शर्मा ने कहा कि 1.80 लाख रुपये से ज्यादा आय वाले परिवारों के बीपीएल राशन कार्ड काटे गए हैं। इसके अलावा जो परिवार पहले बीपीएल की श्रेणी में थे लेकिन अब उनके किसी सदस्य की सरकारी नौकरी लग गया है तो उनका भी बीपीएल कार्ड काटा गया है। इसके साथ ही पेंशनधारी जिनकी आय 1.80 से ज्यादा है, ऐसे परिवारों का बीपीएल कार्ड भी कटा है।

फैमिली आईडी और BPL राशन कार्ड से जुड़ी समस्याओं का समाधान के लिए यहा करे क्लिक 


ऑनलाइन राशन कार्ड बनाने वाला देश का पहला राज्य बना हरियाणा
एडीसी डॉ. वैशाली शर्मा ने कहा कि हरियाणा ऑनलाइन राशन कार्ड बनाने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। पीपीपी के आधार पर पात्र परिवारों का स्वयं ही बीपीएल राशन कार्ड बनाया जा रहा है। पात्र परिवार को महज नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) व ई-दिशा पर स्वयं जाकर अपना राशन कार्ड प्रिंट करवाना है।
आपकी प्रतिक्रिया क्या है?


BPL Ration कार्ड और फैमिली आईडी से जुड़ी समस्याओं के लिए बना हेल्प डेस्क
हरियाणा में फैमिली आईडी और BPL राशन कार्ड से जुड़ी समस्याओं का समाधान अब होगा, हेल्प डेस्क पर