Haryana News

हरियाणवी बोली में छपा शादी का अनोखा कार्ड, 'छौरा-छौरी' के नाम के साथ बताया 'खाने पै टूट पड़न का टेम!'

 | 
हरियाणवी बोली में छपा शादी का अनोखा कार्ड, 'छौरा-छौरी' के नाम के साथ बताया 'खाने पै टूट पड़न का टेम!'

शादी का सीजन चल रहा है और लोग अपने प्रियजनों के विवाह की तैयारी में लगे हुए हैं. शादियों में काफी चीजों की तैयारी करनी पड़ती है, कपड़े, शगुन के सामान, खाना-पीना, बैंड-बाजे से लेकर शादी के कार्ड तक लोगों को बहुत चीजों का ध्यान रखना पड़ता है. शादी में छपने वाला कार्ड भी काफी महत्वपूर्ण होता है क्योंकि वो पहली चीज है जो लोग शादी (Wedding card in Haryanavi dialect) से जुड़ी देखते हैं. ऐसे में कार्ड को काफी देख-परखकर चुना जाता है और उसमें लिखवाई जाने वाली चीजों का भी ध्यान दिया जाता है.

भारत में शादी के कारण आमतौर पर हिन्दी या इंग्लिश में छपते हैं. बहुत से लोग प्रांतिय भाषाओं का भी इस्तेमाल करते हैं, जैसे बंगाल में बंगाली भाषा में कार्ड छपते हैं तो दक्षिण भारत में वहां की भाषा में छपते हैं पर क्या आपने कभी छेत्रीय बोलियों में छपे कार्ड देखे हैं? सोशल मीडिया पर ऐसा ही एक कार्ड चर्चा में है जो हरियाणवी (Haryanavi wedding car photo) बोली में छपा है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पिनट्रेस्ट पर Shailendra Tokas नाम के शख्स ने इस कार्ड को शेयर किया है.


दूल्हे के लिए इस्तेमाल हुआ ‘छौरा-छौरी’ शब्द
ये कार्ड साल 2015 का है. पर मजेदार बात ये है कि ये हरियाणवी बोली में छपा है. दूल्हा और दुल्हन के नाम के आगे ‘छौरा और छौरी’ लिखा हुआ है. दूल्हे का नाम सुनील है और दुल्हन का नाम आरती है. कार्ड की शुरुआत में लिखा है- “बड़े चाव ते न्यौंदा देरे, सब काम छोड के आणा होगा.” नामों के नीचे लिखा है- दूल्हा-दुल्हन का शुभ विवाह टेक दिया है. अर इस खुशी के मौके पे थारा सारे कुणबे का न्यौता सै अर म्हारा सारा कुणबा थारे आण की गाम हैबतपुर जिला जीन्द में कसृनी तै कसूती अर ऐडी ठा-ठा कै बाट देखेगा.


बच्चों की ओर से हरियाणवी में लिखी मजेदार लाइनें
इसके बाद शादी समारोह से जुड़े कार्यक्रमों की लिस्ट दी हुई है जिसमें लिखा है- खाने पै टूट पड़न का टेम, छड़दम तारण का टेम…सबसे रोचक है बच्चों की ओर से लिखी गई लाइन. कार्ड ने नीचे लिखा है- “मेरे पै दौबारा आण का टेम कोनी, कदे मेरी बाट मैं रह ज्यो, मेरे भाई के ब्याह मैं थारि सारां का आणा घणा जरूरी सै- कोमल, आशु.”