Haryana News

PM Kisan: 13वीं क‍िस्‍त से पहले पीएम मोदी ने दी खुशखबरी, सुनकर खुशी से झूम उठे पूरे देश के लोग

 | 
PM Kisan: 13वीं क‍िस्‍त से पहले पीएम मोदी ने दी खुशखबरी, सुनकर खुशी से झूम उठे पूरे देश के लोग

PM Kisan Nidhi 13th Instalment: पीएम क‍िसान सम्‍मान न‍िध‍ि को शुरू हुए चार साल पूरे हो गए हैं. केंद्र सरकार की इस महत्‍वाकांक्षी योजना की अब तक 12 क‍िस्‍त क‍िसानों के खाते में आ चुकी हैं. 13वीं क‍िस्‍त का इंतजार एक-एक द‍िन करके लंबा होता जा रहा है. डीबीटी के जर‍िये क‍िसानों के खाते में इस क‍िस्‍त को कभी भी ट्रांसफर क‍िया जा सकता है. लेक‍िन इस क‍िस्‍त के आने से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने क‍िसानों और देशवास‍ियों को बड़ी खुशखबरी दी है. पीएम मोदी ने शुक्रवार को कहा कि 2023-24 का केंद्रीय बजट, पिछले 8-9 साल की तरह एग्रीकल्‍चर सेक्‍टर पर केंद्रित है.

आयात पर निर्भरता कम करने के लिए कदम उठाए
तिलहन और खाद्य तेलों पर भारत की आयात निर्भरता कम करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. कृषि और सहकारिता क्षेत्रों के हितधारकों के साथ बजट के बाद एक वेबिनार को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश का कृषि बजट कई गुना बढ़कर 1.25 लाख करोड़ रुपये हो गया है. उन्होंने कहा, 2014 में हमारे सत्ता में आने से पहले कृषि क्षेत्र का बजट 25,000 करोड़ रुपये से कम था. आज देश का कृषि बजट 1.25 लाख करोड़ रुपये से अधिक है.

एग्रीकल्‍चर सेक्‍टर में 3000 स्टार्टअप
पीएम मोदी ने कहा क‍ि सरकार दलहन और तिलहन के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए मिशन मोड में काम कर रही है. उन्होंने कहा कि भारत खाद्य तेल के आयात पर लगभग 1.5 लाख करोड़ रुपये खर्च करता है. प्रधानमंत्री ने इस बात पर भी जोर द‍िया क‍ि बजट कृषि-प्रौद्योगिकी स्टार्टअप पर केंद्रित है. इनके लिए धन आवंटित करने के लिए कोष का भी प्रस्ताव किया गया है. उन्होंने कहा कि एग्रीकल्‍चर सेक्‍टर में स्टार्टअप की संख्या 9 साल पहले लगभग जीरो थी, जो अब बढ़कर 3,000 से अधिक हो गई है.


पीएम मोदी ने कहा कि सहकारी क्षेत्र में एक नई क्रांति हो रही है. उन्होंने कहा सहकारी क्षेत्र पहले केवल कुछ राज्यों तक सीमित थे लेकिन अब पूरे देश में इसका विस्तार किया जा रहा है. यह प्रधानमंत्री द्वारा संबोधित किया गया दूसरा वेबिनार था. उन्होंने हरित विकास के विषय पर विस्तार से अपनी बात रखी थी.