Haryana News

Rs 500 Note: छपे पर RBI को नहीं मिले 88 हजार करोड़ रुपये के 500 के नोट, RTI में बड़ा खुलासा!

 | 
Rs 500 Note: छपे पर RBI को नहीं मिले 88 हजार करोड़ रुपये के 500 के नोट, RTI में बड़ा खुलासा!

Mysterious Disappearance Of 500 Note: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को 1999-2010 के बीच लॉकर्स में जमा किए गए एडिशनल 339.95 मिलियन करेंसी नोटों से समस्या थी, जो सरकारी सिक्योरिटी प्रिंटिंग प्रेसों के आउटपुट से अधिक थी. लेकिन अब, एक पूरी तरह से अलग मामला सामने आया है. टकसालों ने नए डिजाइन किए गए 500 रुपये के 8,810.65 मिलियन नोट जारी किए, लेकिन आरबीआई को केवल 7,260 मिलियन के नोट मिले. मिसिंग नोटों की कीमत 88,032.5 करोड़ रुपये है.

द फ्री प्रेस जर्नल में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, किसी को नहीं पता है कि रहस्यमय ढंग से गायब हुए 1,760.65 मिलियन 500 रुपये के नोट कहां है, जिसमें अप्रैल 2015 से मार्च 2016 तक नासिक मिंट में मुद्रित 210 मिलियन नोट शामिल हैं. गायब होने वाले नोटों की कीमत 88,032.5 करोड़ रुपये है. बार-बार प्रयासों के बावजूद, भारतीय रिजर्व बैंक के प्रवक्ता ने रिजर्व बैंक वॉल्ट से गायब होने वाले नोटों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है.

यहां होती है नोटों की छपाई
भारत अधिकृत नोट मुद्रण को तीन सरकारी मिंटों - भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण (पी) लिमिटेड, बेंगलुरु, करेंसी नोट प्रेस, नासिक, और बैंक नोट प्रेस, देवास में मुद्रित करता है और उन्हें भारतीय रिजर्व बैंक वॉल्ट में भेजता है, जो भारतीय अर्थव्यवस्था में आगे की वितरण के लिए होते हैं.

RTI से हुआ बड़ा खुलासा
RTI का डेटा अधिकार के तहत जानकारी अधिग्रहण की गई जिसे एक्टिविस्ट मनोरंजन रॉय ने हासिल किया. नासिक करेंसी नोट प्रेस द्वारा 375.450 मिलियन नए डिजाइन के 500 रुपये के नोटों की मुद्रण की गई, लेकिन रिजर्व बैंक के रिकॉर्ड में केवल 345.000 मिलियन नोट मिले हैं, जो अप्रैल 2015 से दिसंबर 2016 तक मुद्रित किए गए थे. पिछले महीने एक अन्य आरटीआई के उत्तर में, नासिक करेंसी नोट प्रेस ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2015-2016 (अप्रैल 2015-मार्च 2016) के लिए 210 मिलियन रुपये के 500 नोट आरबीआई को आपूर्ति किए गए थे, जब रघुराम राजन भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर थे.

कहां गए 500 रुपये के इतने नोट?
नासिक करेंसी नोट प्रेस की रिपोर्ट में दिखाया गया है कि नए डिजाइन के 500 रुपये के नोट भारतीय रिजर्व बैंक को आपूर्ति किए गए हैं, लेकिन रिजर्व बैंक की वार्षिक रिपोर्ट में नए डिजाइन वाले 500 रुपये के नोटों की कोई उल्लेख नहीं है, जो उसकी सार्वजनिक डोमेन वार्षिक रिपोर्ट पर सुधार के रूप में जारी की गई है. नासिक करेंसी नोट प्रेस द्वारा प्रदान की गई अधिक जानकारी में दिखाया गया है कि 2016-2017 में भारतीय रिजर्व बैंक को 1,662.000 मिलियन नए डिजाइन के 500 रुपये के नोट आपूर्ति किए गए थे.

RBI को नहीं मिले सभी 500 के नोट
भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण (पी) लिमिटेड, बेंगलुरु, ने 2016-2017 में भारतीय रिजर्व बैंक को 5,195.65 मिलियन रुपये के 500 नोट आपूर्ति की थी और बैंक नोट प्रेस, देवास, ने 1,953 मिलियन रुपये के 500 नोट आपूर्ति की थी, लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक ने तीन मिंटों से केवल 7,260 मिलियन नए डिजाइन वाले 500 रुपये के नोट प्राप्त किए हैं. इसमें असंगति है, क्योंकि तीन मिंटों ने कुल मिलाकर 8,810.65 मिलियन नए डिजाइन वाले 500 रुपये के नोट मुद्रित किए थे, लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक को केवल 7,260 मिलियन नोट मिले हैं.

इतने नोट गायब होना जाक नहीं
रिजर्व बैंक भारतीय अर्थव्यवस्था में होने वाले इस बड़ी असंगति के बारे में उदासीन है, जिसमें मिंटों में मुद्रित उच्च-मूल्य भारतीय मुद्रा नोटों की संख्या और रिजर्व बैंक वॉल्ट में प्राप्त होने वाली कुल संख्या में इतनी बड़ी असंगति है. 1,760.65 मिलियन नोट गायब होना कोई मजाक नहीं है. मनोरंजन रॉय ने कहा कि यह हमारी भारतीय अर्थव्यवस्था और उसकी स्थिरता के बारे में सुरक्षा संबंधी चिंताओं को उठाता है. RTI कार्यकर्ता ने इस बारे में केंद्रीय आर्थिक खुफिया ब्यूरो और ED को लिखा है.

उन्होंने केंद्रीय आर्थिक खुफिया ब्यूरो और एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट को लिखकर तीन मिंटों में मुद्रित करोड़ों में उच्च मूल्य की मुद्रा नोटों में अनियमितताओं की जांच करने के लिए कहा है. वरिष्ठ भारतीय रिजर्व बैंक अधिकारी ने असंगति का बचाव किया है. लेकिन, यह अजीब है कि नोटों को रिजर्व बैंक वॉल्ट में पहुंचने में इतना समय लग रहा है.

नेता प्रतिपक्ष अजीत पवार ने करेंसी प्रिंटिंग प्रेस में हजारों करोड़ के घोटाले का सनसनीखेज आरोप लगाया है. 2016 में नोट फैक्ट्रियों में 88 हजार करोड़ के नोट छापे गए. हालांकि अजित पवार ने आरोप लगाया है कि यह सरकार के खजाने में नहीं पहुंचा है. उन्होंने यह आरोप एक अखबार के हवाले से लगाया है. अजित पवार ने यह भी मांग की है कि आरबीआई को इस पर सफाई देनी चाहिए.