Haryana News

हरियाणा के जिन गांवों में नहीं जाती है बस, वहां चलेंगे अब ई-ऑटो रिक्शा, युवाओ को मिलेगा रोजगार

 | 
हरियाणा के जिन गांवों में नहीं जाती है बस, वहां चलेंगे अब ई-ऑटो रिक्शा, युवाओ को मिलेगा रोजगार

हरियाणा में परिवहन सुविधाओं को बेहतर करने का काम तेजी से किया जा रहा है। इसके लिए हरियाणा सरकार के अलग अलग जिलों में भी कई योजनाओं पर काम किया जा रहा है। वहीं हरियाणा के यमुनानगर से ग्रामीण राही वाहिनी योजना को शुरू किया गया जिससे गांवों के लोगों को काफी फायदा होने वाला है। इतना ही नहीं इस योजना से ज़िले में रोजगार भी पैदा किया जा सकेगा।

दरअसल इस योजना का उद्देश्य गांवों में भी बेहतर परिवहन सुविधा देने का है जिससे गांवों के लोगों को भी आने जाने में किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। वहीं इस योजना से ज़िले के बेरोजगार युवाओं के लिए भी नौकरी सृजित की जा सकती हैं। इस योजना की शुरुआत 16 गांवों से की जाने वाली है।


गांवों के लोगों के लिए चलाए जाएंगे ई रिक्शा

हम जानते हैं कि गांवो को परिवहन सुविधाओं से बेहतर कनेक्टिविटी नहीं मिल पाती है। क्योंकि गांवों की सड़कें भी मुख्य सड़क से अच्छे से जुड़ी नहीं होती हैं। इसी समस्या को हल करने के लिए ग्रामीण राही वाहिनी योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के अनुसार उन गांवों में ई रिक्शा को चलाया जाने वाला है जहां बसों की सुविधा नहीं है। इससे गाँव के लोगों को आने जाने में भी काफी आसानी हो जाएगी। डीसी पार्थ गुप्ता ने बताया है कि इस योजना से ग्रामीणो को परिवहन सुविधा दी जाएगी।

शुरुआत में 16 गांवों में इस योजना को शुरू किया जाने वाला है। जिसमें बिलासपुर खंड, बंसेवाला, नागल पट्टी, नगली, ज्ञानला, मखोर, खेड़ी ब्राह्मण, चंदाखेड़ी के गांव शामिल हैं, जबकि सधौरा प्रखंड, लहरपुर, राठली, निजामपुर, उधमगढ़ गोलनी, अकबरपुर, प्रतापनगर प्रखंड के कन्यावाला, भीलपुरा व नवाजपुर गाँव को शामिल किया गया है। इन गांवों के लोगों को ही सबसे पहले इस योजना का लाभ मिलने वाला है।

बेरोजगारों को मिलेगा ई रिक्शा चलाने का मौका

बताया जा रहा है कि इस योजना के तहत बेरोजगार युवाओं को ही ई रिक्शा चलाने का मौका दिया जाने वाला है। जिसमें महिलाओं को प्राथमिकता मिलने वाली है। अब जो भी युवा ई रिक्शा चलाने का इच्छुक है वे ज़िला पंचायत एवं विकास अधिकारी के कार्यालय में आवेदन जमा करा सकता है। इसके बाद ही टीम का गठन किया जाएगा जो गाँव गाँव जाकर आवेदक को ई रिक्शा खरीदने की मंजूरी देने वाली है।